गिरिडीह में आपका स्वागत है

गिरिडीह जिला..

गिरिडीह जिला झारखण्ड का एक प्रशासनिक जिला है, जिसका मुख्यालय गिरिडीह है. गिरिडीह जिला 4 दिसम्बर 1972 का हजारीबाग जिला से अलग हुआ था. यह जिला 24 डिग्री 11 मिनट उत्तरी अझांश और 86 डिग्री 18 मिनट पूर्वी देशांतर के बीच स्थित है. यह जिला उत्तरी छोटानागपुर प्रमण्डल के मघ्य में स्थित है जिसके उत्तर में बिहार के जमुई और नवदा जिले पुर्व में देवधर और जामताड़ा दक्षिण में धनबाद और बोकारो तथा पश्चिम में हजारीबाग एवं कोडरमा जिले है. गिरिडीह जिला 4853.56 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है. प्रसिद्ध पारसनाथ पहाड़ी यहाँ पर स्थित है और यह झारखंड का सबसे ऊंची चोटी है जिसकी ऊँचाई समुद्र तल से 4431 फीट है. यह जिला रूबी अभ्रक और कोयला क्षेत्र के लिए भी प्रसिध्द है. प्रसिध्द जी0 टी0 रोड इस जिले से होकर गुजरती है.

गिरिडीह जिला का इतिहास..

गिरीडीह जिला का इतिहास यह बताता है कि यह छोटानागपुर पठार के हजारीबाग जिला का एक हिस्सा है. छोटा नागपुर का संपूर्ण क्षेत्र जो झारखंड के रूप में जाना जाता है दुर्गम पहाड़ियों और जंगलों घिरा से है. हालांकि यह क्षेत्र भारत के कई भागों के साथ संपर्क में था, अभी तक गैर आर्य आदिवासी जिसका कोई राजा न था यहाँ निवास करता था. नियमित विदेशी आक्रमणकारियों के कारण छोटा नागपुर के निवासियों ने एक राजा के चुनाव का फैसला लिया और मुण्डा राज्य का राजा बना. गिरिडीह जिला के इतिहास के अनुसार, गिरिडीह जिला सहित छोटानागपुर प्रमण्डल अशोषित रूप में प्रकट प्रतीत हुआ है. 1556 ई0 में दिल्ली के गद्दी का उत्तरघिकारी अकबर ने झारखण्ड के इतिहास को नया मोड़ दिया. मुगल सम्राटों के लिए यह खुखरा के रुप में जाना जाता था. उस अबधि के दौरान, इस क्षेत्र का प्रथम मुगल राजस्व प्रसासन के रुप में पेश किया गया . रामगढ़ केंदी कुंदा और खरगडीहा( जो कि पुराने जिले हजारीबाग के साथ गिरिडीह को शामिल कर गठित किया था)एवं पूरे पलामू विजय प्रांत थे जिनको ब्रिटिश जिला के रुप मे गठन किया गया. 1931 में कोल के उत्पादन में बढ़ोत्तरी का बाद क्षेत्र की प्रसाशनिक संरचना बदल गयी पर गिरिडीह को गंभीरता से प्रभावित नहीं कर पाया. ये प्रान्त दक्षिण पश्चिम फ्रोंटियर का हिस्सा बन गए और एक प्रमंडल का गठन किया जो की हजारीबाग था, जिसका प्रसाशनिक मुख्यालय हजारीबाग था. 1954 में दक्षिण पश्चिम फ्रोंटियर एजेंसी छोटा नागपुर में बदल गया और यह बिहार के लेफ्टिनेंट गवर्नर के तहत एक गैर विनियमन प्रान्त केरूप में प्रसाशित किया जाने लगा.

गिरिडीह जिला का भौगोलिक दिशा..

भौगोलिक दृष्टि से, गिरिडीह जिला मोटे तौर पर दो प्राकृतिक डिवीजनों, अर्थात् केंद्रीय पठार और निचले पठार में विभाजित है. केंद्रीय पठार, जिले के बगोदर ब्लॉक के निकट पश्चिमी भाग छूती है. निचले पठार की औसत ऊंचाई उनकी उतार-चढाव सतह से 1300 फुट है. उत्तर और उत्तर पश्चिम में, निचली पठार काफी फार्म का स्तर पठार होता है जब तक कि 700 फुट नीचे घाटों पर नहीं पहुंचते. जिला में शामिल विशाल जंगलों को समान रूप से वितरित कर हैं. पेड़ों में सबसे प्रसिद्ध साल है और प्रमुख प्रजातियों यहाँ पाया जाता है. अन्य प्रजातियाँ बांस, सिमुल, महुआ, पलास, कुसुम, केन्द,आसन पीयार और भेलवा हैं. गिरिडीह जिला दो मुख्य जलसिराओं में विभाजित है- बराकर और सकरी नदी. जिला खनिज संसाधनों में समृद्ध है और इसे यहाँ कई बड़े कोयला क्षेत्र हैं जो भारत में मेटलर्जिकल कोल की सर्वोत्तम गुणों के होते है. झारखंड के इस जिले में बड़े पैमाने पर मीका पाया जाता है, जो की न केवल भारत बल्कि अन्य देशों के लिए भी महत्वपूर्ण है. यह ज्यादातर तिसरी और गांवा ब्लॉकों में पास पाया जाता है.

गिरिडीह जिला में प्रयटन..

गिरिडीह जिले में कई लोकप्रिय पर्यटक स्थल हैं. जिले के दर्शनीय स्थलों की यात्रा दर्शनीय विकल्पों में पेश करता हैं.इस जिले का दौरा करने वाले यात्रियों को उपलब्ध विकल्पों के साथ एक साहसिक अनुभव भी होता है . गिरिडीह जिले के महत्वपूर्ण्यटक स्थल उसरी फॅाल, खण्डोली, मधुबन, पारसनाथ, झारखण्डी धाम और हरिहर धाम हैं. 2001 की जनगणना के अनुसार गिरिडीह जिले के कुल आबादी 19,01,564 है. गिरिडीह जिले में 13 सामुदायिक विकास प्रखण्ड,गिरिडीह, गाण्डेय, बेंगाबाद, पीरटांड, डुमरी, बगोदर, सरीया, बिरनी, धनवार, जमुआ, देवरी, तिसरी और गांवा हैं..