कोषागार

  1.  सभी जिला कोषागार 1997 से NIC के द्वारा Unix/Fox base डाटा प्रयाग कर कमप्यूटरीकृत किया गया है.
  2.  2004 में NIC, वित्त और सूचना प्रोद्योगिकी विभागों द्वारा गिया समन्वित कोषागारों को आधुनिकीकरण कार्यक्रमों में भाग लेना शुरु किया .
  3. NIC नवीनत्तम डाटाबेस Oracle9i और Interface में Visual Basic का उपयोग कर एक सॉफ्टवेयर बनाया गया. Server-Client संरचना पर आधारित भूमिका में सुरक्षा सुविधाओं को शामिल किया गया .
  4. दिन के अंत में, संबधित लेनदेन Central Server में डाल दिया जाता है, जो वेभ बेस इंटरफेस पर वरिष्ठ अधिकारियों का विभिन्न MIS रिपोर्टों को प्रदर्शित करता है.
  5. महत्तम भूमिका आधारित सुरक्षा और फर्जी निकासी का जाँच करता है.
  6. Online बैंक लेन-देन और GPF अनुसूची पर कोषागार सही पकड रखता है.
  7. बिल सहायक सही बिलों का सुरक्षित और डिजिटल में है और इसी तरह बैंक भी आसान और कुशल लेखा प्रक्रिया से भेजता है.
  8. Central Server पर दैनिक लेन-देन NIC द्वारा निगरानी किया जाता है.
  9. प्रभावी नियंत्रण और प्रबंधन के लिए आधुनिकतम क्वेरी सिस्टम है.